Billi Aur Bandar – Cat and Monkey

एक गाँव में 2 बिल्लियाँ रहती थी | वो दोनों आपस में बहुत प्यार से रहती थी | उन्हें जो कुछ भी मिलता था, उसे आपस में मिल-बांटकर खाया करती थी | एक दिन उन्हें एक रोटी मिली | उसे बराबर -बराबर बाँटते वक़्त उनमें झगड़ा हो गया | एक बिल्ली को अपनी रोटी का टुकड़ा दूसरी बिल्ली के रोटी के टुकड़े से छोटा लगा | लेकिन दूसरी बिल्ली को अपनी रोटी का टुकड़ा छोटा नहीं लगा |
जब दोनों बिल्लियाँ किसी नतीजे तक नहीं पहुंची तो दोनों बिल्लियाँ एक बन्दर के पास गयीं | उन्होंने बन्दर को सारी बात बतायी और उससे न्याय करने के लिए कहा | सारी बात सुनकर बन्दर एक तराजू लेकर आया और दोनों टुकड़े एक-एक पलड़े में रख दिए | तोलते समय जो पलड़ा भारी हुआ, उस वाली तरफ से उसने थोड़ी सी रोटी तोड़कर अपने मुँह में डाल ली | अब दूसरी तरफ का पलड़ा भारी हो गया, तो बन्दर ने उस तरफ से रोटी तोड़कर अपने मुँह में डाल ली | इस तरह बन्दर कभी इस तरफ से तो कभी दूसरी तरफ से रोटी ज्यादा होने का कारण बताकर रोटी तोड़कर अपने मुँह में डाल लेता |
दोनों बिल्लियाँ चुपचाप बन्दर के फैंसले का इंतज़ार करती रहीं लेकिन जब दोनों बिल्लियों ने देखा कि दोनों टुकड़े बहुत छोटे-छोटे रह गए तो वे बन्दर से बोली : ” आप चिंता ना करो, हम लोग अपने आप रोटी का बंटवारा कर लेंगी”
इस बात पर बन्दर बोला – ” जैसा आप दोनों को ठीक लगे, लेकिन मुझे भी अपनी मेहनत कि मज़दूरी तो मिलनी ही चाहिए ना” इतना कहकर बन्दर ने रोटी के बचे हुए दोनों टुकड़े अपने मुँह में डाल लिए और बिल्लियों को वहां से खाली हाथ भगा दिया |
दोनों बिल्लियों को अपनी गलती का एहसास चुका था और उन्हें समझ में आ चुका था कि “आपस की फूट बहुत बुरी होती है और दूसरे इसका फायदा उठा सकते हैं”

Hindi in English Letters:

Ek gaon mein 2 billiyaan rahti thi. Wo aapas mein bahut pyaar se rehti thi. Unhe jo kuchh bhi milta tha, usey aapas mein baantkar khaya karti thi. Ek din unhe ek roti mili. Usey baraabar-baraabar baantay waqt unmein jhagda ho gaya. Ek billi ko apni roti ka tukda doosri billi ke roti ke tukdey se chhota lagaa. Lekin doosri biili ko apni roti ka tukda chhota nahi lagaa.
Jab dono billiyan kisi natije tak nahi pahunchi to dono billiyan ek bandar ke paas gayin. Unhone bandar ko saari baat bataayi aur ussey nyaay karne ke liye kaha. Saari baat sunkar bandar ek taraaju le kar aaya aur dono tukdey ek-ek paldey mein rakh diye. Tolte samay jo paldha bhari hua, us wali taraf se usne thodi si roti todkar apne mooh mein daal li. Ab doosri taraf ka palda bhaari ho gaya, to bandar ne us taraf se roti todkar apne mooh mein daal li. Is tarah bandar kabhi is taraf se to kabhi doosri taraf se roti jyaada hone ka kaaran bataakar roti todkar apne mooh mein daal leta.
Dono billiyan chupchaap bandar ke fainsle ka intezaar karti rahin. Lekin jab dono billiyon ne dekha ki dono tukdey bahut chhote-chhotey reh gaye to we bandar se boli : ” Aap chintaa naa karo, hum log apne aap roti ka bantwara kar lengi.”
Is baat par bandar bola – ” Jaisa aap dono ko theek lage, lekin mujhe bhi apni mehnat ki mazdoori to milani hi chahiye naa” Itna kehkar bandar ne roti ke bache huye dono tukdey apne mooh mein daal liye aur billiyon ko wahan say khaali haath bhagaa diya.
Dono billiyon ko apni galti ka ehsaas ho chuka tha aur unhe samajh mein aa chuka tha ki “Aapas ki foot bahut boori hoti hai aur doosrey iska fayda utha sakte hain”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
 

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.