Mookh Se Nikle Shabad Waapis Nahi Liye Jaa Sakte

by HindiMein.com on February 8, 2015

in Moral Stories, Short Stories

एक समय की बात है | एक किसान ने अपने एक पड़ोसी को बहुत भला-बुरा कह दिया | बाद में जब उस किसान को अपनी गलती का एहसास हुआ तो वो एक महात्मा के पास गया | उसने उस महात्मा को सारी बात बताई और उनसे अपने मुँह से निकले हुए गलत शब्द वापिस लेने का तरीका पूछा |
महात्मा ने किसान से कहा, “तुम जंगल जाकर बहुत सारे पक्षियों के पंख इकठ्ठा करो और उन्हें शहर के बीचो-बीच जाकर रख आओ ” | किसान ऐसा करने के बाद फिर से महात्मा के पास पहुँचा |
तब महात्मा ने कहा, “अब दोबारा जाओ और उन पंखो को इकठ्ठा करके मेरे पास ले आओ जिन्हे तुम शहर के बीचो-बीच रख आये थे ” |
किसान वापिस गया लेकिन तब तक सारे पंख हवा से इधर-उधर उड़ चुके थे | किसान खाली हाथ महात्मा के पास पहुँचता है | तब महात्मा ने उससे कहा कि ठीक ऐसा ही हमारे द्वारा कहे गए शब्दों के साथ भी होता है, तुम आसानी से उन्हें अपने मुँह से निकाल तो सकते हो लेकिन उन्हें चाह कर भी वापिस नहीं ले सकते” |

सीख : किसी को भी भला बुरा कहने से पहले ये याद रखना चाहिए कि मुँह से निकले शब्द वापिस नहीं लिए जा सकते हैं !!

Hindi in English Letters:

Ek samay ki baat hai. Ek kisaan ne apne ek padosi ko bahut bhala bura keh diya. Baad mein jab us kisaan ko apni galti ka ehsaas hua to wo ek mahatma ke paas gaya. Usne us mahatma ko saari baat batayi aur unse apne mooh se nikle huye galat shabad waapis lene ka tareeka puchha.
Mahatma ne kisaan se kaha, “tum jungle bahut saare pakshiyon ke pankh ikattha karo aur unhe shehar ke beecho-beech jaaka rakh do”. Kisaan aisa karne ke baad phir se mahatma ke paas pahuncha.
Tab mahatma ne kaha, “ab dobara jao aur un pankho ko ikattha karke mere paas le aao jinhe tum shehar ke beecho-beech rakh aaye the”.
Kisaan waapis gaya lekin tab tak saare pankh hawaa se idhar-udhar ud chuke the. Kisaan khaali haath mahatma ke paas pahunchta hai. Tab mahatma ne usse kaha ki theek aisa hi hamare dwara kahe gaye shabdon ke saath bhi hota hai, Tum aasani se unhe apne moonh se nikaal to sakte ho lekin unhe chaah kar bhi waapis nahi le sakte”.

Seekh: Kisi ko bhi bhala bura kehne se pehle ye yaad rakhna chahiye ki moonh se nikle shabad waapis nahi liye jaa sakte hain

Leave a Comment

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
 

Previous post:

Next post: