पानी को हमेशा बैठकर घूँट-घूँट करके ही पीना चाहिए

पानी को हमेशा बैठकर धीरे-धीरे करके पीना चाहिए मतलब कि घूँट-घूँट भरके पीना चाहिए | अगर हम इस तरह बैठकर घूँट-घूँट करके पानी पीते हैं तो उसका एक सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि हमारे हर घूँट में मुँह की लार पानी के साथ घुलकर हमारे पेट में जायेगी और पेट में बनने वाले अम्ल को शान्त करेगी | हमारी लार क्षारीय और बेहद मूल्यवान होती है | हमारे पित्त को संतुलित करने में ये क्षारीय लार बहुत मददगार साबित होती है | जब भी हम खाना चबाते हैं तो वो हमारी लार में ही लुगदी बनकर हमारी आहार नाली के जरिये अमाशय में आता है और वहां जाकर वो पित्त के साथ मिलकर हमारी पाचन क्रिया को पूरा करता है | इसलिए मुँह की लार ज्यादा से ज्यादा पेट में जानी चाहिए जिसके लिए हमें पानी धीरे-धीरे घूँट-घूँट भरके बैठकर पीना चाहिए |

व्यक्ति को कभी भी खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए | ऐसा करने पर घुटनो के दर्द से बचा जा सकता है | कभी भी घर के बाहर से वापिस आने पर जब शरीर गर्म होता है या सांस तेज चल रही हो तो थोड़ा सा रूककर जब शरीर का तापमान ठीक हो जाए तभी पानी पीना चाहिए | खाना खाने से कम से कम डेढ़ घंटा पहले पानी जरूर पीलें, इससे खाना खाते वक़्त प्यास नहीं लगेगी |

सुबह-सुबह उठते ही सबसे पहले बासे मुँह, बिना मुँह धोये या ब्रश किये कम से कम एक गिलास पानी जरूर पीलें | इस से ये लाभ होगा कि रात भर में हमारे मुँह में Lysozyme नामक जो जीवाणुनाशक बनता है, वो सुबह पानी के साथ हमारे पेट में जाकर हमारी पाचन tantra को बिमारी से मुक्त करता है |

सुबह उठते ही मुँह की बासी लार आँखों में लगाने से आँखों की रोशनी और काले घेरों के लिए फायदेमंद होती है | रोजाना कम से कम 4 लीटर पानी जरूर पीयें | किडनी में पथरी न बनें, इसके लिए ये जरुरी है कि ज्यादा से ज्यादा मात्र में पानी पीयें और जितनी अधिक मात्र में हो सके मूत्र त्याग करें |

कितना पानी पीना चाहिए ?

आयुर्वेद के अनुसार :- अपने शरीर के वज़न के 10वें भाग में से 2 को घटाने पर मिली हुयी मात्र के बराबर पानी पीना चाहिए |
उदाहरण के तौर पर :- अगर आपका वज़न 70 किलो है तो उसका 10वा भाग होगा 7 और उसमे से 2 घटाने पर मिलने वाली मात्र 5 लीटर होगी |
फायदा :- कब्ज (constipation), अपच (indigestion) आदि जैसी बीमारियों के लिए पानी रामबाण इलाज है, इसके साथ ही ये मोटापा कम करने में भी सहायक होता है | जिन व्यक्तियों को अधिक पित्त बनता है, उनको भी इससे फायदा अवश्य होगा |

Hindi in English Letters:

Paani ko hamesha baithkar dheere-dheere karke peena chahiye matlab ki ghoont-ghoont bharke peena chahiye. Agar hum is tarah baithkar ghoont-ghoont karke paani peete hain to uska ek sabse bada faayda ye hoga ki hamare har ghoont mein moonh ki laar paani ke saath ghulkar hamare pet mein jaayegi aur pet mein banne wale aml ko shaant karegi. Hamari laar kshariye aur behad mulyavaan hoti hai. Hamare pitt ko santulit karne mein ye kshariye laar bahut madadgaar saabit hoti hai. Jab bhi hum khana chabaate hain to wo hamari laar mein hi lugdi bankar hamari aahar nali ke jariye amashya mein jaata hai aur wahan jaakar wo pitt ke saath milkar hamari paachan kriya ko poora karta hai. Isliye moonh ki laar jyada se jyada pet mein jaani chahiye jiske liye humein paani dheere-dheere ghoont-ghoont bharke baithkar peena chahiye.

Vyakti ko kabhi bhi khade hokar pani nahi peena chahiye. Aisa karne par ghutno ke dard se bacha jaa sakta hai. Kabhi bhi ghar ke baahar se waapis aane par jab shareer garm hota hai ya saans tej chal rahi ho to thoda sa rukkar jab shareer ka taapmaan theek ho jaaye tabhi paani peena chahiye. Khaana khaane se kam se kam ded ghanta pehle paani jarur peelein, isse khaana khaate waqt pyaar nahi lagegi.

Subah-subah uthate hi sabse pehle baase moonh, bina moonh dhoye ya brush kiye kam se kam ek glass paani jarur peelein. Is se ye laabh hoga ki raat bhar mein hamare moonh mein Lysozyme naamak jo jivaanunaashak banta hai, wo subah paani ke saath hamare pet mein jaakar hamari paachan tantra ko bimaari se mukt karta hai .

Subah uthate hi moonh ki baasi laar aankhon mein lagaane se aankhon ki roshni aur kaale gheron ke liye faaydemand hoti hai. Rojana kam se kam 4 litre paani jarur peeyein. Kidney mein pathri na banein, iske liye ye jaruri hai ki jyada se jyada maatra mein paani peeyein aur jitni adhik maatra mein ho sake mootra tyaag karein.

Kitna pani peena chahiye?

Ayurveda Ke Anusaar:- Apne shareer ke wajan ke 10 vein bhaag mein se 2 ko ghataane par mili huyi maatra ke baraabar paani peeyein.

Udaahran ke taur par:- Agar aapka wajan 70 kilo hai to uska 10 wa bhaag hoga 7 aur usme se 2 ghataane par milne wali maatra 5 litre hogi.

Faayda:- Kabj (constipation), apach (indigestion) aadi jaisi bimaariyon ke liye paani raambaan ilaaj hai, iske saath hi ye motapa kam karne mein bhi sahaayak hota hai. Jin vyaktiyon ko adhik pitt banta hai, unko bhi isse faayda avashya hoga.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
 

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.