Mutthi Bhar Namak Ka Swaad

एक व्यक्ति अपने जीवन से बहुत ही ज्यादा परेशान और निराश था | एक दिन वो अपने गुरूजी के पास पहुंचा और बोला :- गुरूजी, मैं अपनी इस जीवन से बहुत ही ज्यादा परेशान हूँ | मेरे जीवन में दुखों के अलावा और कुछ भी नहीं | कृपा करके आप मेरा मार्गदर्शन करें |

गुरूजी ने एक गिलास में पानी भरा और उसमे एक मुट्ठी भर नमक डाला | फिर गुरूजी ने उस आदमी से उस पानी को पीने के लिए कहा |

उस आदमी ने पानी पी लिया |

गुरूजी :- तुम्हे इस पानी का स्वाद कैसा लगा ??

आदमी :- इसका स्वाद तो बहुत ही ज्यादा खराब है !!

फिर गुरूजी उस आदमी को एक तालाब के पास लेकर गए | गुरूजी ने उस तालाब में भी एक मुट्ठी भर नमक दाल दिया और उस आदमी को उस तालाब का पानी पीने को कहा |

आदमी ने तालाब का पानी पिया |

गुरूजी : अब बताओ तुम्हे इस तालाब का पानी कैसा लगा ?

आदमी :- गुरूजी , इसका पानी तो बहुत ही ज्यादा स्वाद है |

तब गुरूजी ने समझाया :- बेटा, इस जीवन के सभी दुःख इस मुट्ठी भर नमक के बराबर ही हैं | जीवन में परेशानियों की मात्र तो एक समान रहती हैं, परन्तु ये व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वो दुखों का कितना स्वाद लेता है ! यह व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वो अपनी सोच और क्षमता को गिलास की तरह सीमित रखकर रोज खरा और बेस्वाद पानी पीयें या फिर तालाब कि तरह विशाल बनाकर मीठा पानी पीयें !!

सीख: जीवन में दुःख हमरेशा साथ साथ चलते हैं, लेकिन अगर हम लोग अपनी सकारात्मक सोच को उनके आगे ना झुकने दें तो सभी दुःख हमारे सामने बेकार हो जाएंगे !

Ek vyakti apne jeevan se bahut hi jyada pareshaan aur niraash tha. Ek din wo apne guruji ke paas pahuncha aur bola:- Guruji, main apni is jeevan se bahut hi jyada pareshaan hoon. Meri jeevan mein dukhon ke alaawa aur kuchh bhi nahi. Kripa karke aap mera maargdarshan karein !

Guruji ne ek glaas mein paani bhara aur usme ek mutthi bhar namak daala. Phir guruji ne us aadmi se us paani ko peene ke liye kaha.

Us aadmi ne paani pee liya.

Guruji:- Tumhe is paani ka swaad kaisa laga??

Aadmi:- Iska swaad to bahut hi jyaada kharaab hai !!

Phir guruji us aadmi ko ek talaab ke paas lekar gaye. Guruji ne us talaab mein bhi ek mutthi bhar namak daal diya aur us aadmi ko us talaab ka paani peene ko kaha.

Aadmi ne talaab ka paani piya.

Guruji: Ab batao tumhe is talaab ka paani kaisa laga?

Aadmi:- Guruji, iska paani to bahut hi jyada swaad hai |

Tab guruji ne samjhaaya :- Beta, is jeevan ke sabhi dukh is mutthi bhar namak ke baraabar hi hain. Jeevan mein pareshaaniyon ki maatra to ek samaan rehti hain, parantu ye vyakti par nirbhar karta hai ki wo dukhon ka kitna swaad leta hai ! Yeh vyakti par nirbhar karta hai ki wo apni soch aur kshamta ko glass ki tarah seemit rakhkar roj khara aur beswaad paani peeyein ya phir talaab ki tarah vishaal banaakar meetha paani peeyein !!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
 

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.