Lalchi Makkhiyan – Greedy Flies

एक समय की बात है | एक व्यापारी अपने एक ग्राहक को शहद बेच रहा था कि तभी अचानक व्यापारी के हाथ से शहद का बर्तन फिसलकर गिर गया | बहुत सारा शहद ज़मीन पर बिखर गया | जितना शहद ऊपर-ऊपर से उठाया जा सकता था, उतना उस व्यापारी ने उठा लिया लेकिन कुछ शहद फिर भी ज़मीन पर ही गिरा रह गया |

थोड़ी ही देर में ढ़ेर सारी मक्खियाँ उस ज़मीन पर गिरे हुए शहद पर आकर बैठ गईं | मीठा-मीठा शहद उन्हें बहुत अच्छा लगा | वो जल्दी-जल्दी उसे चाटने लगीं | जब तक उनका पेट भर नहीं गया वो शहद चाटती रहीं |

जब मक्खियों का पेट भर गया और उन्होंने उड़ना चाह तो वो उड़ ना सकीं क्योंकि उनके पंख शहद में चिपक गए थे | वो जितना छटपटाती उनके पंख उतने चपकते जाते | उनके सारे शरीर में शहद लगता जाता |

काफी मक्खियाँ शहद में लोटपोट होकर मर गईं | बहुत सी मक्खियाँ पंख चिपकने की वजह से छटपटाती रही लेकिन तब भी कुछ नयी मक्खियाँ शहद के लालच में वहां आती रहीं | मरी और छटपटाती हुई मक्खियों को देख कर भी वो शहद खाने का लालच नहीं छोड़ पायीं |

मक्खियों की दुर्गति और मूर्खता देख कर वो व्यापारी बोला, “जो लोग अपनी जीभ के स्वाद के चक्कर में पड़ जाते हैं, वो उन मक्खियों के सामान ही मूर्ख होते हैं | स्वाद का थोड़ी देर का सुख उठाने के लालच में वह अपने स्वास्थ्य को खत्म कर देते हैं | मरीज बनकर तड़पते हैं और जल्दी ही मर जाते हैं |

Ek samay ki baat hai. Ek vyapaari apne ek graahak ko shehad bech raha tha ki tabhi achaanak uske haath se shehad ka bartan phisalkar gir gaya. Bahut sara shehad zameen par bikhar gaya. Jitna shehad upar-upar se uthaaya jaa sakta tha,utna us vyaapari ne utha liya lekin kuchh shehad phir bhi zameen par hi gira reh gaya.

Thodi hi der mein dher saari makkhiyan us zameen par girey huye shehad par aakar baith gayi. Meetha-meetha shehad unhe bahut achchha laga. Wo jaldi-jaldi usey chaatne lagi. Jab tak unka pet bhar nahi gaya wo shehad chaatati rahi.

Jab makkhiyon ka pet bhar gaya aur unhone udna chaaha to wo ud na saki kyonki unke pankh shehad mein chipak gaye the. Wo jitna chhatpataati unke pankh utne chapakte jaate. Unkey saarey shareer mein shehad lagta jaata.

Kaafi makkhiyan shehad mein lotpot hokar mar gayin. Bahut si makkhiyan pankh chipakney ki vajah se chhatpataati rahi lekin tab bhi kuchh nayi makkhiyan shehad ke laalach mein wahan aati rahin. Mari aur chhatpataati hui makkhiyon ko dekh kar bhi wo shehad khaane ka laalch nahi chhod paayin.

Makkhiyon ki doorgati aur moorakhta dekh kar wo vyaapari bola, “Jo log jeebh ke swaad ke chakkar mein pad jaate hain, wo un makkhiyon ke samaan hi moorkh hote hain. Swaad ka thodi der ka sukh uthaane ke laalach mein weh apne swasthya ko khatam kar dete hain. Mareej bankar tadpate hain aur jaldi he mar jaate hain.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
 

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.